बाल मेला: कोरोना के समय में एक छोटा सा प्रयास

बाल मेला: कोरोना के समय में एक छोटा सा प्रयास कोरोना आया और लॉकडाउन लाया। लॉकडाउन बढ़ने के कारण स्कूल और कॉलेज भी बंद रहे। आज सात माह से बच्चे घर पर ही हैं। जिनके पास मोबाइल है, अब उनकी ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हो गई है लेकिन एक वंचित तबका […]

Read More

Jhola Dukaan, Diaries, Masks | झोला दुकान, डायरी, मास्क : अपना जीवन बेहतर बनाने की दिशा में

Friends, It has been a tremendously difficult time for everyone, and in some ways it has also led to new ways of making meaning and adapting to these unprecedented circumstances. The already marginalized working-class in the bastis of Bhopal, where we are based, are particularly struggling, having lost their livelihoods […]

Read More

मदनी नगर में पुस्तकालय

मदनी नगर, बर्राई सन 2017 में डीएनटी एकजुटता के संदर्भ में हम लोगों का अलग-अलग जगह जाना हुआ।जहाँ भी घुम्मकड़ समुदाय के लोग रहते थे, उनसे मिलने और एकजुटता प्रोग्राम की जानकारी साझा करने के उद्देश्य से झागरिया जाना हुआ। उसी रास्ते में जाते हुए इस बस्ती (मदनी नगर) पर […]

Read More
लॉक डाउन का गरीब बच्चों की शिक्षा पर असर

लॉक डाउन का गरीब बच्चों की शिक्षा पर असर

लॉक डाउन का गरीब बच्चों की शिक्षा पर असर लॉक डाउन ने हर किसी को अपनी तरह से असर किया है| इस दौरान लोगों के रोजगार छिनने और पूरे देश  की अर्थव्यवस्था के बेपटरी होने की बहुत चर्चा हो रही है| बड़े बड़े राहत पैकेज की घोषणा सरकारों के द्वारा […]

Read More
Lockdown for the people of Shyam Nagar, Bhopal

Lockdown for the people of Shyam Nagar, Bhopal

“We all are very troubled because of the lockdown. The government has closed everything to save everyone from the virus, to contain its spread and to treat those who are COVID-positive, it’s a good thing, in a way. But they didn’t think about us who live in the bastis. We […]

Read More

करोंद,भोपाल में गाड़िया लोहार समुदाय

गाड़िया लोहार समुदाय, करोंद भोपाल बेवा कॉलोनी, करोंद में रह रहे गाड़िया लोहार के 12 परिवार में 40 सदस्य हैं| ये मूल रूप से राजस्थान कोटा के फुटपाथ पर रहने वाले हैं| काली बाई बताती हैं, “हम 50 साल से ही फुटपाथ पे रहते आ रहे हैं| आज़ादी आई जब […]

Read More

बच्चों की डायरी के कुछ पन्ने

निशा और पिंकी सबरी नगर बस्ती में रहती हैं और मुस्कान के जीवन शिक्षा पहल स्कूल में क्लास 5 में पढ़ती हैं। लॉक-डाउन के चलते, जब स्कूल आना बंद हो गया, तो उन्होंने अपने आस पास की घटनाएं, अपने रोज़ के अनुभव, और लोगों की बातें सुनकर, तरह तरह की […]

Read More

ताकि थमे नहीं कलम..!

कोरोना संक्रमण के शुरुवाती दौर में ही जब बच्चों की छुट्टियाँ लगा दी गईं तो एक-आधा हफ्ता तो यूँही  खेल मस्ती में आसानी से निकल गया पर उसके बाद जब ये लॉक डाउन का दौर शुरू हुआ तो बच्चों की चिंताएं भी बढ़ गईं| जब हमारे शिक्षक साथियों ने बच्चों […]

Read More

Mothers’ experiences in the Lockdown

We put together some experiences of motherhood and mothering that we have been seeing in the lockdown around us. This includes women who spend long hours standing in the sweltering heat to secure a meal for their families day after day, women who are not just trying to create a […]

Read More